अपने बिगड़े हुए कार्यों की सिद्धि के लिए हर किसी को करना चाहिए इस मंत्र का जाप

हनुमानजी का मंत्र | Hanumanji mantra lyrics in Hindi

मनुष्य का जीवन कार्यशील है। उसे जीवन भर कार्य करते रहना होता है। वह अपने सम्पूर्ण जीवन काल में अनगिनत कार्य करता है। उसके द्वारा किय गए बहुत सारे कार्य सफल जाते है लेकिन बहुत सारे कार्य असफल होकर बर्बाद हो जाते है। इस तरह के बिगड़े कार्यों को पूरा करने के लिए ही अध्यात्म का मार्ग अपनाकर हनुमानजी के मंत्र का जाप करना होता है।

- Advertisement -

हनुमानजी का मंत्र

ॐ हनुमते नमः
ॐ पूर्वकपिमुखाय पच्चमुख हनुमते
टं टं टं टं टं सकल शत्रु सहंरणाय स्वाहा।

हनुमानजी के मंत्र का अर्थ:

हे भगवान हनुमान आपको प्रणाम, आप तो पांच मुख वाले भी हो, आप शत्रुओं का नाश करके बिगड़े कार्य बनाने वाले भी हो।

भगवान हनुमान के इस मंत्र का जाप सुबह के समय सूर्योदय के बाद करना होता है। इस मंत्र का जाप करने से पहले नहा-धोकर शारीरिक रूप से स्वच्छ हो जाना होता है। इस मंत्र का जाप भगवान हनुमान की प्रतिमा के सामने करना होता है। इस मंत्र का जाप भगवान हनुमान के मंदिर में करना ज्यादा अच्छा होता है।

यह भी पढ़े: अगर भय से मुक्ति पाकर निर्भीक होकर जीना चाहते है तो करें इस शक्तिशाली मंत्र का जाप

इस मंत्र का जाप करते समय नमस्कार की मुद्रा में रहना होता है। इस मंत्र का जाप काम से कम तीन बार करना होता है। इस मंत्र का जाप करते समय भगवान पर लाल फूल चढ़ाना होता है और दीया जलाना होता है। इस मंत्र का जाप अपने इच्छानुसार किसी भी दिन किया जा सकता है लेकिन मंगलवार को ज़रूर करना होता है। इस मंत्र के प्रभाव से सारे बिगड़े काम बन जाते है और जीवन ख़ुशहाल बन जाता है।

- Advertisement -