नवरात्री हवन मंत्र हिंदी में । Navratri Hawan Mantra in Hindi

नवरात्री के दौरान माँ दुर्गा की पूजा पूरे भारतवर्ष में मनाई जाती है, खासकर पश्चिम बंगाल अपने दुर्गा पूजा के लिए प्रसिद्ध है। दस दिनों तक पूरे धूम-धाम से मनाई जाने वाली इस पूजा के नौवें दिन अर्थात नवमी को माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। उनकी इस पूजा में हवन का विधान है, और कहा जाता है की जो भी पूरे मन से इस हवन पूजा को करता है उसके सभी कार्य सिद्ध होते हैं और उसे माता का आशीर्वाद मिलता है।

- Advertisement -
   

नवरात्री हवन मंत्र हिंदी में । Navratri Hawan Mantra in Hindi

ऊं ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डयै विच्चै नमः।।

नवरात्री हवन मंत्र का विवरण :
माँ दुर्गा की इस हवन पूजा के लिए सबसे पहले एक मिट्टी का हवन कुंड बना लें, जिसे गाय के गोबर और गौमूत्र से लीपना होता है। हालाँकि अगर आप हवन कुंड नहीं बना पाते तो ताम्बे का हवन कुंड बाजार से खरीद लें। साथ ही आपको बाजार से हवन पूजा की सामग्री भी बड़ी ही आसानी से मिल जायेगी।

इस हवन पूजा के लिए सर्वप्रथम आपको सभी सामग्री को गंगाजल छिड़ककर पवित्र कर लेना होता है। फिर हवन कुंड में आम की सुखी लकड़ियां डालें और उसके बाद थोड़े रुई में घी लपेटकर हवन कुंड में डाल दें और फिर कपूर को जलाकर हवन को प्रज्वलित करें। इसके बाद घी की आहुति देते हुए दुर्गा माता के मंत्र का उच्चारण करें।

यह भी पढ़ें: चंद्र देव का हमारी कुंडली में एक बड़ा ही महत्व होता है। उनके इस मंत्र के जाप मात्र से आपके घर में सुख, समृद्धि, शांति और मन के भीतर शीतलता का वास होता है, जानें इस खास मंत्र को और इसके लाभ।

आपको इस हवन में 108 बार घी की आहुति देते हुए माता के इस मंत्र का जाप करना है। उसके बाद माँ दुर्गा की आरती करें और हवन के भभूत को सभी श्रद्धालुओं के बीच बाँट दें। इसके साथ ही किसी एक कन्या को भोजन कराएं और उनसे आशीर्वाद लें। कहा जाता है की जो भी माँ दुर्गा की इस हवन पूजा को पूरे मन से पूरा करता है उसे माँ का आशीर्वाद प्राप्त होता है और उसका जीवन मंगलकारी हो जाता है।

- Advertisement -