12 सूर्य मंत्र | 12 Surya Mantra in Hindi

यू तो मनुष्य का जीवन परेशानियों से भरी पड़ी है। धैर्य मनुष्य का गहना है। अगर मनुष्य अपने पास धैर्य रखता है तो वह सहनशील बनता है, वह कर्मठ बनता है, वह अपने जीवन के प्रति कृतज्ञ महसूस करता है। धरती पर रहने वाला हरेक मनुष्य चाहता है कि वो धैर्यवान बने लेकिन ऐसा बहुत कम के साथ ही हो पाता है। धैर्यवान बनने के लिए मनुष्यों को अपने मन मस्तिष्क को अपने नियंत्रण में रखना होता है। इसके लिए मनुष्यों को 12 सूर्य मंत्र (12 Surya Mantra in Hindi) का जाप करना होता है।

12 सूर्य मंत्र | 12 Surya Mantra in Hindi

ॐ मित्राय नमः
ॐ रवये नमः
ॐ सूर्याय नमः
ॐ भानवे नमः
ॐ खगाय नमः
ॐ पुषणे नमः
ॐ हिरण्यगर्भाय नमः
ॐ मरीचये नमः
ॐ आदित्याय नमः
ॐ सविरे नमः
ॐ अर्काय नमः
ॐ भास्कराय नमः

- Advertisement -

12 सूर्य मंत्र का अर्थ: हे सूर्य हम आपकी प्रार्थना करते हैं, आप सभी के अनुकूल है, आप उज्ज्वल और दीप्तिमान हैं, आप जीवन से अंधकार को दूर करने वाले हैं, आप जीवन को प्रकाशमान बनाने वाले हैं, आप सर्वव्यापी है, आप पोषण और शक्ति देने वाले है। हे सूर्य आप हमारे जीवन को प्रकाशमय बनाते हैं, आप अदिति के पुत्र हैं, आप यश और कीर्ति देने वाले हैं। हे सूर्य आप ज्ञान और प्रकाश देने वाले हैं।

सूर्य के इस मंत्र का जाप प्रतिदिन करना होता हैं। इस मंत्र का जाप रविवार के दिन करना ज्यादा अच्छा माना जाता है। इस मंत्र का जाप प्रातः काल में सूर्योदय के समय करना होता है। इस मंत्र का जाप करने से पहले स्नान करके शारीरिक रूप से स्वच्छ हो जाना होता है। सूर्य मंत्र के जाप के दौरान अपना मुख पूर्व दिशा की ओर रखना होता है। इस मंत्र का जाप तीन बार करना होता है।

इसे भी पढ़े: अगर आप असफलता से परेशान है तो आपको करना चाहिए कुछ खास, करें इस सक्सेस मंत्र का जाप और पाए सफलता

सूर्य मंत्र के प्रभाव से जीवन की बाधाओं और परेशानियों का सामना करने की शक्ति मिलती है। इस मंत्र से मनुष्य में धैर्य बढ़ता है। इस मंत्र के प्रभाव से मनुष्य सकारात्मक बनता है। यह मंत्र मनुष्यों को समृद्ध बनाता है और व्यक्ति अपने जीवन के प्रति कृतज्ञ महसूस करता है।

- Advertisement -