बटुक भैरव मंत्र | Batuk Bhairav Mantra in Hindi

इस पृथ्वी पर आठ अरब से ज्यादा लोग निवास करते है, हरेक का अपना देश अपना समाज होता है जिसमें वो रहता है। चुकी मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, उसे समाज में रहना पसंद है, वह जिस समाज में रहता है उसमें उच्च स्थान हासिल करना चाहता है। हरेक मनुष्य अपने समाज में उचित प्रतिष्ठा प्राप्त करना चाहता है लेकिन इसके लिए उसे बहुत तपस्या करना पड़ता है और बटुक भैरव के मंत्र (Batuk Bhairav Mantra in Hindi) का जाप करना होता है।

- Advertisement -

बटुक भैरव मंत्र | Batuk Bhairav Mantra in Hindi

ॐ ह्रीं बटुकाय
आपदुद्धारणाय
कुरु कुरु बटुकाय
ह्रीं ॐ स्वाहा।

बटुक भैरव मंत्र का अर्थ: हे भगवान भैरव आपकी महिमा अपरमपार, आप सारे जग के रखवाले है, आप मनुष्यों के उद्धार करने वाले है। हे बटुक भैरव आपको हमारा प्रणाम है, आप हम पर अपनी दृष्टि बनाए रखें।

बटुक भैरव मंत्र का जाप सप्ताह में मात्र एक दिन करना होता है। इस मंत्र के जाप के लिए मंगलवार का दिन निर्धारित किया गया है। इस मंत्र का जाप शाम के समय सूर्यास्त के बाद करना होता है। बटुक भैरव के मंत्र का जाप उनके मूर्ति के सामने ही करना होता है। इस मंत्र का जाप करते समय मिट्टी के दीये जलाने होते है।

इसे भी पढ़े: अगर आपकी कोई इच्छा अधूरी रह गई है और आप चाहते है कि वो पूरा हो जाए तो आपको करना होगा साई बाबा के इस चमत्कारी मंत्र का जाप

बटुक भैरव के मंत्र का जाप कम से कम लगातार ग्यारह बार करना होता है। इस मंत्र का जाप लगातार सात मंगलवार करने से इसका उचित लाभ मिलना शुरू हो जाता है। इस मंत्र के प्रभाव से मनुष्य वैभवशाली बनता है, उसकी सामाजिक स्थिति में सुधार होता है। बटुक भैरव के मंत्र के प्रभाव में आकर मनुष्य का जीवन सँवर जाता है, उसे हर जगह सफलता हासिल होती है, वह जो भी काम करता उसमें उसे कभी भी असफलता का राह नहीं देखना पड़ता, वह अपने जीवन में हमेशा अग्रसर रहता है।

- Advertisement -