भटकते हुए मन को अपने वश में करने के लिए इस अनोखे मंत्र का जाप करना चाहिए

भगवान विष्णु मंत्र | Bhagwan Vishnu Mantra lyrics in Hindi

मन बहुत ही चंचल होता है। इसे भटकने में ज्यादा समय नहीं लगता। मनुष्य को सफल होने के लिए अपने मन पर नियंत्रण प्राप्त करना होता है। अपने मन को अपने वश में रखना बहुत बड़ी उपलब्धि होती है क्योंकि मनुष्य का मन ही उसके जीवन का निर्धारण करता है कि उसका जीवन कैसा होगा। मनुष्य को अपने मन को अपने शरीर के वश में करने के लिए मंत्र का जाप करना होता है।

- Advertisement -

भगवान विष्णु मंत्र

कायेन वाचा मनसेन्द्रियैर्वा
बुद्ध्यात्मना वा प्रकृतिस्वभावात्
करोमि यद्यत्सकलं परस्मै
नारायणयेति समर्पयामि

भगवान विष्णु के मंत्र का अर्थ:

मैं शरीर से, वाणी से, मन से या इन्द्रियों से जो कुछ भी करता हूँ, या तो बुद्धि के भेदभाव से, या दिल की गहरी भावनाओं से, या मन की मौजूदा प्रवृत्तियों से, मैं जो भी काम बिना स्वामित्व के करता हूँ, मैं उन्हें श्री नारायण के चरणों में समर्पित करता हूं।

भगवान विष्णु के इस मंत्र का जाप प्रतिदिन प्रातः काल में सूर्योदय के समय करना होता है। इस मंत्र का जाप नहाकर शारीरिक रूप से शुद्धि के बाद करना होता है। इस मंत्र का जाप भगवान विष्णु के प्रतिमा के सामने करने पर ज्यादा अच्छा होता है, इसे बिना प्रतिमा के भी सूर्य भगवान के सामने मुख करके किया जा सकता है।

यह भी पढ़े: अगर कोई मनवांछित फल की प्राप्ति करना चाहता है तो उसे करना होगा ये आध्यात्मिक काम

इस मंत्र का जाप करते समय या तो नमस्कार की मुद्रा में रहना होता है या फिर पद्मासन की मुद्रा में रहना होता है। इस मंत्र का जाप लगातार एक महीने करने के बाद से ही इसका प्रभाव दिखना शुरू होता है। इस मंत्र के प्रभाव से मनुष्य का मन बिलकुल उसके शरीर के नियंत्रण में आ जाता है। इस मंत्र के प्रभाव से मन इधर-उधर नहीं भटकता। जीवन सफल बन जाता है।

- Advertisement -