घातक जन्म दोषों और असाध्य धन की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए बस इस चीज को अपने हाथ से गोमाता को करें दान। दोष दूर होंगे और महालक्ष्मी की कृपा से घर में धन-समृद्धि आने लगेगी।

हम कितना भी अच्छा कर रहे हों, पर संघर्ष करते रह जाते हैं। लेकिन सभी बुरे काम करने वाले अच्छे खासे कमा रहे होते हैं। यह विचार सभी मनुष्यों में निहित होता है। हमारे दुखों का कारण इस जन्म में की गई हमारी कोई गलती नहीं है। हमने पिछले जन्मों में जो कुछ किया है, वही इस जन्म में अनुभव कर रहे हैं। यदि इस प्रकार का जन्म दोष हमारा अनुसरण करता है, तो हमें जीवन के सभी पहलुओं में पीड़ित होना पड़ता है। इस दोष को दूर करने का एक सरल उपाय अब इस आध्यात्मिक पोस्ट में पाया जा सकता है।

कर्मों से उत्पन्न इन दोषों के कारण हमें कभी भी धन की प्राप्ति नहीं होती है। बर्बादी होती रहती है। इसी प्रकार घर में किसी न किसी व्यक्ति को शारीरिक रोग होते रहते हैं। घर में शांति नहीं रहती। खर्चे बढ़ते रहते हैं। इस कर्म के दोष को दूर किए बिना आप कितनी भी पूजा कर लें, आपको उसका फल नहीं मिलेगा।

- Advertisement -

दरिद्रता, कर्म दोष को दूर करने के लिए करें इसकी परिक्रमा:
इस परिक्रमा के लिए हम किसी मंदिर में नहीं जाना है और कोई सामग्री नहीं खरीदनी है। जो गाय आपकी नजर में है उसके लिए आपको हर रोज साग, फल और सब्जियां खरीदनी चाहिए। घर में हमें बचा हुआ सामान खरीदना और देना नहीं चाहिए। इसे गाय के लिए अलग से खरीदना चाहिए और घर में चपाती बनाकर गाय को दान में दें तो अच्छा है।

जो लोग घर के पास कोई गाय नहीं हैं उन्हें घर में एक पैसा बटोरने वाला रखना चाहिए और उसमें जितना हो सके उतना पैसा रोज डालना चाहिए। एक निश्चित मात्रा में जमा होने के बाद, आप सड़कों पर जा सकते हैं और किसी भी गाय की जरूरत की हर चीज खरीद सकते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह कब तक दिया जाना चाहिए। आप खरीद सकते हैं और जितने दिन दे सकते हैं देते रहें। जब आपको लगे कि हम अब संतोषी जीवन जी रहे हैं तो यह उपाय करना बंद कर दें।

यह भी पढ़ें : एक बार पीपल के वृक्ष के नीचे इस दीपक को जलाएं, धन की होगी बढ़ोतरी और आपका जीवन हो जायेगा राजसी, जानें यह गुप्त उपाय।

ऐसे उपायों की तलाश करने के बजाय, यदि हम अपना जीवन दूसरों को चोट पहुँचाए बिना अच्छे तरीके से व्यतीत करें, तो हम ऐसे कर्मफल से बच सकते हैं। इस एक विचार को ध्यान में रखते हुए, आइए हम प्रायश्चित करें और अपने जीवन को अच्छे तरीके से जियें।

- Advertisement -